ये प्यार है या PR है?

लेखक ज़ैद चौधरी 

माँ के 100वें जन्मदिन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनका आशीर्वाद लेने गुजरात के गांधीनगर स्थित उनके आवास पहुंचे। पीएम मोदी द्वारा अपनी मां से मुलाकात करते, उनके पैर धोते हुए और अपनी मां का मुंह मीठा कराते हुए  कई तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे रहे हैं। लोग इस पर अपनी प्रतिकिर्या भी दे रहे हैं।

यह पहली बार नहीं है कि मोदी, कैमरा और एक्शन वाली खबर सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल हो रही है। इससे पहले भी प्रधानमंत्री मोदी कैमरे के प्रति उनके प्यार को लेकर  चर्चा में रहें है। फिर वो चाहे माँ से मुलाक़ात पर कैमरा साथ ले कर  जाना हो या उनके सिक्योरिटी गार्ड का कैमरे के सामने आने पर मोदी जी का उसको हटाना हो। हाल ही में नरेंद्र मोदी की उनकी माता के साथ तस्वीरें तो वायरल हो ही रही है, साथ ही दिल्ली में प्रगति मैदान टनल का निरीक्षण करने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जब किनारे पड़ा कचरा दिखाई दिया तो उसे फौरन खुद उठाया और उसे डस्टबिन में फेंका। सोशल मीडिया पर इसका वीडियो भी तेजी से वायरल हो रहा है और लोग इस पर अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। 

प्रधानमंत्री मोदी और उनके कैमरे का कमाल अक्सर देखने को मिल जाता है। मोदी जितनी बार अपनी माँ से मिलने जाते है, हर जगह तस्वीरें जैसे बह सी जाती है। तो सवाल तो यही उठता है की, ये माँ के प्रति प्रधानमंत्री मोदी का प्यार है या PR है। क्यूंकि एक साधारण व्यक्ति की तरह सोचा जाए तो कौन सा बेटा  अपनी माँ से मिलने जाता है, तो कैमरा टीम अपने साथ लेकर जाता है। हम सभी अपने माँ – बाप के साथ भोजन करते हैं, उनके साथ बैठ कर बाते करते हैं, लेकिन तस्वीरों का ढिंढ़ोरा नहीं पीटते। 

प्रधानमंत्री मोदी का कैमरा प्रेम कई मौकों पर हमने देखा है,फेसबुक के सीईओ जुकरबर्ग से मुलाकात के दौरान, जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल के साथ चाय पर मुलाक़ात के दौरान, महाबलीपुरम,तमिलनाडु के समुद्र तट पर कूड़ा उठाते हुए, 2015 में रूस यात्रा पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक रूसी अधिकारी ने तब टोका जब वह कैमरा देख कर यह तक भूल गए की भारत का राष्ट्रगान बज तहा है और वो कैमरे की और चल पड़े। 2017 में जब पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी और सलाहकार इवांका ट्रंप हैदराबाद में ग्लोबल आंत्रप्रेन्योर समिट में शामिल हुई थीं तब मोदी और इवांका को एक टूर गाइड ऐतिहासिक चीजों के बारे में जानकारियां दे रहा था । इवांका उसकी बातें ध्यान से सुन रही होती हैं लेकिन पीएम की नजरें कैमरे की ओर थी उन्होंने कैमरे के सामने व्यक्ति को इशारे से हटने को कहा, जिसका वीडियो खूब वायरल भी हुआ था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर शुरू से आरोप लगते आए हैं कि वे कैमरा प्रेमी है। वे कैमरे में सबसे आगे रहना चाहते हैं ताकि उनका चेहरा कैप्चर हो सके।

ऐसी ही बहुत सी घटनायें है, ऐसे ही बहुत से उदाहरणों के बाद यदि ये सवाल उठाया भी जाए तो गलत नहीं होगा के मोदी जी, यह प्यार है या PR है?

Leave a Reply